२० माघ २०७९, शुक्रबार February 3, 2023

विनाशकारी बाढ

२५ श्रावण २०७८, सोमबार
विनाशकारी बाढ

सरसर पूर्वाहिया बयाल बहटी रहे
चिरै चिरबिर चिरबिर बोलिट
मुर्घी डैना पख्ना सुखैटी रहिट
पानी बर्सना संकेत मिलल
जब करिया कुचिल बडरी उम्रल डेखापरे
करिया बडरीमे उज्जर बकुलिया
उर्टी रहिट


बर्सक बुँडा झर् झर् आइ लागल
चौबिसे घण्टा पानी अइटी रहे
खेटुवक मेरुवा उँइरा अलाजल होगिल
सारा कुलुवा खटहा लडिया भरके
अलाजल होगैल
न लडियक हाँगा न पाटा सारा
ओर चिल्ली बिल्ली मचगैल
गोरु भैँस छेग्री भेँडी
पानीक बहाब संग संगे पुह गिलै उहे
विनाशकारी बाढमे


बचाउ बचाउ कहिके आवाज सुन्जाए
हेर्टी हेर्टी टमान घर घारी गमागम
भसकके पुहे लागल
डेहरी, कुठली, बखारिक धान भसक्के
पुहे लागल
घरमे पालल मुर्गी चिंगनी भभक् भभक्
उडके आपन जिउ जोगाइक लाग उपाय खोज्टी रहिट
कोई पानीसंग पुहटी रहिट
लडियक छाल गाउँसम हुल्कारा मर्टी रहे
रुख्वा, बरिख्वा डमा डम गिरके
धर्टी डगमगा उठे


उहोर पहरुवा भसक्के घर खेटुवा
सारा टहस नहस हुके एक एक
माटिम मिलल् लाहास
निकर्टी डेख मिलल्
जवान मनै उद्धारमे खटल रहिट
बिचारा बुह्राइल बुडी बुडु कन्पट्टीम
हाठ ढैके आँस चुहैटी रहिट
केक्रो घरबार धनजन सब क्षति करडेहल
यिहे विनाशकारी बाढमे
कैलारी गापा–४, के गाउँ खल्ला टोल कैलाली