रारा कि अप्सरा ?

-कैलारी अनलाइन

बुधवार, २१ आश्विन 1:58 PM

लेखकराम चौधरी
चैत महिनाके अन्तिम ओर गरम, सुख्खा, बयाल चल्ना दिन महा आलस लागठ जिहिफे । बसन्त ऋतुके सुरुवाट हुइल ओरसे वातावरण कुछ हरियर डेखके मनम् लावा उमंगफे लान डेहठ । सायद लावा सालके आगमन होके हो की ? ओस्टहे के नयाँ बाली भित्रैना होख फे जत्रा असहज हुइलेसेफे खुसीफे भित्रठ् । मोरफे घरम ओस्ट ह बा । सरकारके आर्थिक वर्षके अन्तिम चौमासिक हुइलक ओरसे कार्यालय मे कामके कौनो ठेगान फे नैहो । विकास निर्माणके काम, प्रशासनिक कामफे द्रुत गति म आघ बर्हल बा । २०७५ चैतके २४/२५ ओरके बात हो । हमार अफिसके कुछ कर्मचारी हुकनके एकठो योजना बन लागठ कि यि साल के नयाँ वर्ष कुछ फरक बनाई कना । कसिक फरक बनैना ट ? कहाँ जाके मनैलेसे फरक बनि ? के के सामेल हुइना ? कै दिन के लाग ? यि प्रश्न उठ्ना सामान्य नैहो । हमार छलफल म फे यि बात आइल । केउ भारत घुम जाइ कल ट कुछ हम्रे कर्मचारी भारत औरे जहनके देश घुम गैलसे नेपालके नाउँ चलल पर्यटकिय ठाउँ घुमि कना हुइल । हाली एकठो योजना हे अन्तिम रुप देलि । रारा के लाग । कम्तिमे ६ दिन के लाग । ओ म बेलौरी नगरपालिका के प्रमुख प्रशासकिय अधिकृत छविलाल नेपाली, शाखा अधिकृत हुँव्रm भोज बहादुर ऐडी औरे सुशिला लेखक, नायब सुब्बा राधा तिमिल्सेना (मोर फुई), कम्प्युटर अपरेटर अशोक पाण्डेय, कृषि शाखा के ना.प्रा.स. सबिना कुँवर ओ मालपोत कार्यालय बेलौरी के स.ले.प. अम्बिका गौतम औरे मोर घर बनैना हुइल ओरसे मै जाई नै सेक्ना हुइनु । दोसर दिन यि बात हमार हाकिम साब लगायत सब जे पटा पैलैं ओ योजना नै बड्लना अवस्था अइनाहस हुइल । आघक् सन्झेक गाडी बुकिङ । सब जे सपिङ ओ सरसामान किन सेकल रलह । मोर बातमे कुइ फे सहमत नै हुइल । ओस्टहँक ऐडी सर कुछ ओस्टह अवस्था लान डेल ओ राधा तिमिल्सेना (मोर फुईके) घरसे फे दबाव आईल ओरसे अन्तिम मे मैफे जैना लगभग पक्का कैनु । सब जे सपिङ कर सेकल ओरसे, सबजे धनगढी अस्रा लगना ओ मै अपन कार्यालयसे बात मिलैना कर्रा रहे । दिनके १ बजे धनगढी चौराहा महिन पुगे पर्ना सर्त हुइल । २०७५ चैत २९ गते लगभग २ बजे ओर बलतल मै धनगढी चौराहा पुगके मोटरसाईकल ढारके बुकिङ हुइल गाडीम सामेल हुइनु ।
हमार यात्रा धनगढी चौराहा से करिब २ः१५ बजे ओर सुरु हुइल । सबजहन म खुसी के एकठो और मेरिक झन्कार डेखाइटह । मोर फे मन म ढ्यार बात खेलटह । गाडीके रफ्टार बर्हल करिब ३ः३० बजे ओर हम्र घोरीघोरा मन्दिर पुग्ली । दर्शन करके कुछ फोटो खिचाके हमार यात्रा आघे बर्हल । फोटो जीवनके पलहे फेर से याद कर्ना एक जिवित माध्यम हो । समय बडल्जाई लेकिन फोटो, याड कबु नै बड्लट । ओह मार फोटो खिचैना म सट्कार जिन बन्बी । करिब ५ बजे हम्र चिसापानी बजारमे नास्ता खाके हमार गन्तव्यहे लग्घु बनैना खोज्ली । डग्रिक कुछ दृष्य हमन सक्कु जहन लोभाइटह । तर रारा के लोभाई से जेदा नाइ । मोर मन म फे सयौं बात खेलठ । जट्टीसे रारा अत्रा सुग्घर हुइहीँ ? मोर काल्हसमके घुम जैना मुवल योजना हे फेर से जिवित बनाइल । मोर लाग और फे खास बन्ना पक्का रह । लोकसेवा पढाईके बेला विश्वके नेपालके भौगोलिक अवस्था म लडिया, टलुवा, पोखरीके बारेमे खोब घोके परे । ओस्टहके राराके बारेमफे एकर क्षेत्रफल, आकार, उचाई, स्थानिय नाउँ, अस्ते अस्ते बात । पर्हल बात आझ ओह बातहे अपन आँखी ओ छातीमे समेत जाइटुँ ओह प्यारी रारा हे । करिब ७ बजे ओर हम्रे कोहलपुर चौराहा पुग्ली । ओठहेसे हमार डगर मोड जाइट पहाड ओर । आब हमार यात्रा और असहज हुइटह । पहाडके डगर उचाइफे बड्लटह । यात्रा बहर्टी रह रात होसकल ओरसे आब कसिक समय कटैना कना हुइल । सबजे अन्ताक्षरी खेल्ना हुइल । दुई टिम बनल । एक टिम म हाकिम साब, सुशिला म्याम, ऐडी सर ओ सबिना कुँवर । डोसर टिम म राधा फुई, अम्बिका, अशोक सर और मै हुइली । मनैन म कुछ ना कुछ खास डेहल रहट कठ जट्टीसे हाकिम साब के आवाज जात मैगर लागल । ओस्तहेके सुशिला म्याम के हिन्दी इभर ग्रीन गितले ट सबजहन फ्यान बना लेलि । ओसटहके राधा फुई और अम्बिका के बात आउर पढाईम फे अब्बल क्रियाकलाप म फे अब्बल । ऐडि सर, सबिना म्याम, अशोक सर के फे बेजोड प्रस्तुती कर्ल । ओस्टह मोर आवाज के फे तारिफ हुइल । समय बहर्टी जाइटह । हमार यात्राफे, ओस्टह म एकठो कुई नै सोचल ओर कल्पना नैकरल शब्द कहुँ वा और कुछ हुकहिन (उनि) । जाट्टीसे उ शब्द आईल ट सबजे एक्कघची चुपहोगिल पुरा माहोल शान्त होगैल । आवाजके नाउँ म खाली गाडीके हावाके बहावके किल । “हुकहिन”(उनि) के हुईटी ? कसिन हुइहीँ ? जाट्टीसे बोलही की नाहीँ ? अस्ट अस्ट बात किल मोर मन म आइटह । सायद सबजे यह बातम हेरागैल रलह मोर जस्ट । अस्टह म हमार ऐडी सर थप्ल लडिया के पानी जब पहाडसे टर तराई म खेल्टी आइबेर जुन आवाज आइट् सायद मोर “हुकहिन” ओस्टह हुइहीँ या ट कहुँ घाँस काटठुइहीँ, या ट मोर अइना बात ठाहाँ पाके सप्रठुइहीँ । के ठप्डेहल सायद भोज बिहा होके अपन लर्कापर्का घरपरिवार सँवारटी की ? यि बातसे माहोल कुछ चम्पन बनल । हमार अशोक पाण्डे सर थप्लैं कि सुशिला म्याम, अम्बिका मिस, राधा मिस या ट सबिना मिस जस्ट हुइ फे सेक्ठी हमार “हुकहिन” । माहोल आउर रोमाञ्चक बनटह । मोर मन म लाग्गील रह की हमार “हुकहिन” कना अवास्तविक बाटी तर ढेर सुग्ग्घर हुइहीँ । मोर मन म एकठो बात नस्से खेल लागत मोर “हुकहिन” मोर अइना अस्रा हेरठुइहीँ ट ? भेट्ना अभिलाषा आउर बर्हे लागल सायद मोर डगर हेरठुइहीँ जस्ते । कबु खयाल नै आईल एकठो चरित्र कहुँ वा चित्र ना त देखल ना त स्पर्श करल खाली सोचाई के गहिराइ म रहल एकठोे सपना जस्ट खाली कल्पना किल । हमार “हुकहिन” के खयाल करट करट जट्टीसे रहल आपन “हुकहिन” हे पुरा विस्रागैल रनहुँ । सायद सक्कु जहनके ओह अवस्था रलहन जस्ट लागट । लगभग साढे ३ घण्टा के यात्राके बाद १०ः३० बजे ओर हम्र कर्णाली प्रदेशके राजधानी सुर्खेतके छिन्चु पुग्ली । रात बैठ्ना व्यवस्था हुइल ओरसे एकठो मजा व्यवस्था हुइल होटल म हम्र आझके दिनके बिस्राम करली ।
बिहन्नी निंड खुलल ओरसे सबजे फ्रेस हुइल, मंै फे लहालेनु । चिया पिके हमार डोसर दिन के यात्रा सुरु हुइल । सुर्खेत विरेन्द्रनगर कर्णाली प्रदेशके सदरमुकाम उपत्यका हुइल ओरसे बिहन्नी बजारम ढेर चहलपहल रह । हमार गाडी म टेल भर्ख विरेन्द्रनगर चोकसे सिधा उत्तर ओर कर्णाली राजमार्ग हुईटी आघ बहर्ठी । डगरके आंजरपांजर देखैना दृष्यले मन म काल्हिसे रहल हमार “हुकहिन” भुलैना माध्यम हुइटह तर फे “हुकहिन”के याड अइटी रहठ । सुर्खेतके बड्डी चौर म हमार गाडी बिहान के नास्ताके लाग बिहानके ८ः३० बजे ओर रुकठी । उहाँके समोसा हमार यहाँ मिल्नासे कुछ मिठ लागल । सबजे डबाके खैल । सबजे याडके लाग २÷४ ठो फोटो खिचके हमे्र आघ बहर्ठी । हमार सुर्खेतके डगर ओराके दैलेखके डगर पिच रलसे फे टुटफुट हुइलक् ओरसे गाडीह चल्ना मुस्किल परटह । उ डगर बेलौरीसे शान्तिपुर जोड्ना डगरके याड डेहटह । नेपाल म वर्षेनी सोचलसे कमे डगर पिच हुइठ । ओमफे गुणस्तरहिन बनठ काहुँ । डुखके साथ कह परठ हमार देशके अभाग हो । ठाउँ ठाउँ म विकास निर्माणके काम ढमाढम चल्टह । एक ठाउँ म हमार गाडी रुकगैल कारण हमारसे आघ रहल मालबाहाक ट्रकके पाछक् एक्सल टुटगैल रह । उत्तर ओरसे अइना और डख्खिन ओरसे जैना गाडी बिच म सब रुकगैल । पुल निर्माणके काम हुइटी रहल ओरसे एकठोसे ज्यादा गाडी पास हुइना ठाउँ नै रह । ओहमार कत्रा रुकपर्ना कुछ पट्ट नैरह । लग्घुहे निर्माणके काम कर्ना कामदारनके बैठक लाग बनागैल झोपरी रह । सबजे बर्दिया जिल्लाके रना हमार थारु जात के रलह, हुकनसँग सामान्य परिचय हुइल । सायद नेपालके सक्कु ठाउँम हमार थारु डाडु भैयन आपन घरड्वार चलाइकलाग रोजगारीके लाग पुगल बटैं । जहाँ इमान्दार बा सायद ओह हमार एकठो पहिचान फेहो तर ढेर ठाउँ म ठग्वा फे पाइल बटैं । लग्घे रहल झरना म हम्र सक्कुजे फोटोफे खिचैली । करिब ३ घण्टा म बल्ल डगर खुलल । यि बेला सम लगभग ५०÷६० गाडी जम्मा होसकल रह । सक्कुजे ओह झरना हुइल ठाउँ म जमा हुइली ट मेला लागल अस अनुभुटी हुइटह । ३ घण्टा के डगर बन्डले हमार रारा अउर डुर रह जाइटही । डगर ढेर बिग्रल ओरसे गाडी जात ढिर से आघ बर्हटह डग्रिक बाउँ ओर पर्ना सुग्घर, शान्त और शौम्य रुपले बहटी रहल कर्णाली के नजरियाले यात्रा और अविस्मरणिय बन्टह । अब्बासम कर्णाली हजारौं जहन के सेन्दुर मेटाईल हुई, कैयौंन के छावा लुटल हुई लेकिन महिन उ बातम् गुनासो नैरह । मै यि मामलाम एकदम पक्षपाटी होगैल रन्हुँ, कारण कर्णाली जो अत्रा सुग्घर बहठी ।

कर्णाली उपार देखेना जात भारी भारी पहाड डेखके जिउ सिरिङ करठ । हमार सुदुरपश्चिमके जिल्ला अछामके विनायक, लयाटी, कालेडाँडा अस्ट अस्ट गाविस हो कहिके हमार ऐडी सर बटैलैं । जागिरके सिलशिलाम कर्मचारी ठाउँ ठाउँ म काम करपर्ना हुइल ओरसे कर्मचारिन ढेर ठाउँ के ज्ञान रहठ । जात साक्किर बिग्रल डगर हुइल ओरसे तल्लो डुंगेश्वर हुइटी दैलेखके राकम कना ठाउँ म सवा ३ बजे ओर पुग्ली । उ ब्याला सम हम्र खाना नै खाइल ओरसे खाना खैना बात हुइल । सबजे भुखाइलफे रल्ह । उ ठाउँ म खासे भारी होटल नै हुइल ओरसे एकठो छुटमोट खाजा खैना होटल म खाना के लाग बात कर्ली ट मानफे दर्ल । टिनाफे हम्रे काटडेली । ओह व्रmम म वहाँके लोकल केरा २ डर्जन किनके खैली । भुखाइल मार होकी खोब मिठ लागल । खानाफे पाक सेकल रह । खाना खैना म हमे्र ढिला नैकर्ना हुइली । हमार गाडीके गुरु जी कैलालीके थारु हुइल ओरसे बेला बेलाम बात कर्ना मौका मिलटह । गुरु जी फे मैगर रलह । हम्र कालिकोट पुग्ना बेलासम कर्णाली हमन आपन मोहनी जाल म कैद कर्ल रल्ही, कहुँ जात टर खोंच म बहटी ट कहुँ आपन पन्ज्रह हमन कराइ टल्ही । कालिकोटके सदरमुकाम मान्म बजार पुग्ना बेलासम कर्णाली हमन बिदा कर सेकल रल्ही । मान्म बजार चट्टान म ठंगलहस लागटह कारण बजारके संरचना और अवस्थिती पठ्ठर म बा, बजारफे भारीनक बा । उ बेलासम करिब ७ बज सेकल रह । हमार गुरु जी फे पहाड के डगरके बारे म कुछ अन्जान रलह ओहमार आउर आघ नै जाइ कना राय देल । ओह बिचम बात बुझ बेर कालिकोट और जुम्लाके सिमाना म रहल नग्म बजारसम पुग सेक्लसे राराके यात्रा आउर छुटी हुइना जानकारी हमार ऐडी सर कल । गुरु जी आपन राय म हल्का हुइल । हमार यात्राके आझके दिन नग्म बजार सम हुइल । अंढार हो सेकल ओरसे बाहेरके दृष्य कुछ नैडेखाइटह । हमार गुरु जी आपन काम म मैगर हिसाबले कर्टी रलह । खै कुन लडियाके आवाज किल हमार कानम गुन्जटह । ओह बिचम हम्र गाडीके नम्मा यात्राले मिच्छा गैल रलही । करिब रातके १०ः३० बजे ओर हम्र नग्म बजार म पुग्ली रात रलसेफे चहलपहल रह । काहेकि पर्यटकके आवाजाही हुइटी रना नाउँ चलल ठाउँके रुपम रहल बा । मुस्किलले एकठो छोटमोट होटल मिलल ओ खानाके व्यवस्थाफे । लग्घेहें बजारके दाहिन पान्जर बहना कर्णालीके सहायक तिला लडियाके कलकल आवाज ले अनुमान कर सेक्जाइटह कि नग्म बजार जात किनार म बा कना । लडिया लघ्घु हुइल ओरसे मच्छी मिल्ना ट स्वभाविक हो । ऐडी सरके जानकारी अनुसार पहाड म मिल्ना भेंरी (च्याङ्ग्रा)के सिकार खाई कना हुइल । हमार बैठल होटल म उपलब्ध नैहुइल ओरसे अशोक सर औरे, मैं च्याङ्ग्राके सिकार खोजे निव्रmली । सब होटल खोजेबेर एकठो होटल म डान्चे मिलगैल । हमार खाना आब च्याङ्ग्राके सिकारफे होगैल । पहिलचो जिभम स्वाद कुछ अजिब लागल । खाना खैना डौरान नग्म बजारसे अभिन ९३ कि. मि. डगर पुरा बाँकी बा । वहाँके स्थानियसे जानकारी मिलल । अट्रा नम्मा गाडीके यात्रा नैकरल हम्र आब डुर लाग लागल । हमार राराके यात्रा डगरके बात सुनेबेर ट आब नैसेक्जाई कि कना हुइ लागल रह । हमार “हुकहिन” भेट्ना लालच या हुँकाहान सुन्दरताले कना हो हमन डान्चे हुइलसे फे ज्यान भरल । रातभर निंद फे मैंया मारलहस हुइल । जब मनैन म चिन्ता, दुःख हुइट ट निंद फे साथ छोरठ काहुँ । कब निंद परल पट्टा नैपइनु ।
बिहानके ५ बजेओर तिला लडियाके कलकल आवाजले मोर निंद खुलगैल । कब ओज्रार हुइ कानले रातभर सुनल आवाज हे आँखीम समेटम कना । सबजहन आपन मोबाइलमसे कल करके उठैनु । सबजे फ्रेस हुइटल्ह मैं आपन आँखी और मनह शान्ति देहकलाग तिला लडिया म बनल झोलुङ्गे पुल म गैनु मजासे अज्रार नैहुइल ओरसे दृष्य मोबाइलके क्यामरा म सुग्घुरके नैआइटह । मोर मन म एकठो अलग्गै आनन्द लागटह सायद आघक दिनके मिच्छावनके मैगर बिर्वा जस्ट लागल ।



आझुक दिन हमार लाग खास रह । हमार यात्राके और वरष अर्थात लौव वरष २०७६ साल बैशाखके पहिल दिन सबजहन एकआपसम शुभकामना लेहिकलेहा कर्ली । आझुह हमार टेसर दिनके यात्राके गन्तव्य हमार खयालम रहल वा कहुँ सपन म बनल । सुग्घर मैगर “हुकहिन” हे भेट्क आपन भुँखप्यास मेटैना । यात्रा सोंचलसे आउर मैगर हुइटह । मोर सोचाई म जुम्ला कना ड्यास पुरा विकट, बराबरा पहाड डगरफे नैहुइ कना रह । टर सोंचाई पुरै फेल खागैल । जुम्ला यात्रा म नाहंङक आइल उत्तर सुर्खेतके पहाड, दैलेख और कालिकोटसे ढ्यार सुन्दर, विकसित, कृषिके लागफे उर्वर और दुनियाँ म पुगल अनुभुटी हुइटह । ओक्रह उपर तिला लडिया आपन वहाव म हमार मनह पुरै आपन ओर टानल । लडिया पारकरक लाग बनागैल कलात्मक परम्परागत शिपके कौशल डेखाइट ।


जहाँ नेपालके लोकप्रिय राजा रानी श्री ५ विरेन्द्र विरविक्रम शहादेव रानी श्री ५ ऐश्वर्य, युवराज दिपेन्द्र शाह और सिपाही हुकनके कलात्मक मैगर कठुवाके मुर्ति बनल संघुवा हमार पुरा ध्यान आपन ओर टानल । लागल कौनो उपकरणके प्रयोग बिन कर्ल अत्रा सुग्घर मुर्ति । हमार थारु जातिन म फे कठुवा, माटी बेल्सख आपन कलाके सिप देखैठ सायद हमार सक्कु नेपाली हुकनके विशेषता हो । बिहानके १०ः३० बजे ओर हमार लौव वरष के पहिला दिनके खाना नेपाली (खस) भाषाके उद्गम ठाउँ जुम्लाके ऐतिहासिक ठाउँ सिंजा उपत्यका म हुइल । राजा विरातके ऐतिहासिक दरबार, पाण्डु गुफाफे सिंजा उपत्यका म हेर मिलठ कना बात वहाँके स्थानिय हुकनसे बुझली । दाहिन ओर तिला लडियाके किनार समथर ठाउँम जात काइल गोहुँ खेती टिना खेती हुइना ठहरल । तराई म गोहुं काट्क डेहरी कुठली चबड्सेकल अ‍ेस्टह सुक्खा हुइना मौसम म काइल देखके हमार आँखीहफे चैन मिलल हस लागट । जिन्दगी म पहिलाचो मार्सी धान (जुम्ला के स्थानिय प्रजाति के धान) केल नाउँ सुनल रन्हुँ और खाए पैना मोर भाग्य कना सोच्नु । जात फरक स्वाद पौष्टिकताके हिसाबलेफे मजा लागल मही मार्सी धानके भात ।


हमार यात्रा आघ बर्हठ डगरम डेखैना पानी घट्टफे हेर्ना मौका मिलल । जहाँ नेपालके जाट्टिक अनुहार देखाइठ जे नेपालके दुर दराजके समस्याहफे वकालत करठ । डग्रिम कुछ लर्का हमार गाडी रोकके खइना चिज ओस्टहके पैसा माग्टल्ह फाटल, मैलाइल लुग्गा लगाइल । लर्कन हमारसँग रहल चाउचाउ, कुछ पैसा देली । खोब खुसी हुइलैं । उ लर्का एकठो प्रतिनिधीपात्र किल हुइटैं । हुकनके जस्टे धेर लर्का हमार थारु समुदाय म आधारभुत शिक्षा, जिवन निर्वाहके लाग सन्तुलित खानासेफे वञ्चित बटैं । हमार थारु समुदाय म रहल एकठो बाल विवाह फे सड्डहस बहर्टी जाइटा । एक दिन जाके हमार समुदायके लागफे अभिशाप बन्ना स्पष्ट बा । आब्बहेसे यिहिन रोकके व्यवहारिक औरे उच्च शिक्षा, राजनितिक चेतना, नेत्तृत्व लेना बात हन जोरडेबी कलेसे किल हमार और हमार समुदायके हित प्रवद्र्धन हुइ । यि बात म हमार अग्रज, आब्बके नेत्तृत्व म रहल अग्रज ओ हम्र युवाहुकनके कंढेम बा । रारा और लग्घे हुइटी जाइटहे । यि मनमफे ढ्यार बाट खेल्टी डगरफे और खतरनाक बन्टी जाइटह, उचाईके साथ हिउँ पगलके पानी बहटह । असिन डगरम गाडी हे जात असहज हुइटह, डगरफे जाट साँक्किर एक्क गाडी किल छिर्ना । और गाडी अइलसे फे ब्याक कर्के साईड डेहपर्ना जात से जिउ डराईटह । डरैलेसेफे जब हिउँके चर्डी ओराइल पहाडके नजरियाले यि मन अत्रा खुस और रोमाञ्चक हुइटह, सबजे आपन आपन मोबाइल म उ नजरियाहे कैद कर्ना म व्यस्ट रलह । मैफे आपन मनहे रोके नैसेक्नु ।



आब प्रतिक्षाके घडि खतम हुइटह । कुछ समय बाद हमे्र सक्कुजे राराके गुफा म रबी टबुनफे मोर मन म कुछ अजिव बात खेल्टी रह जिवन म ढ्यार सुनल पर्हल रारा जाट्टिसे ओत्रा सुग्घर हुइहीं ? ३ दिन के नम्मा गाडीके यात्रा, यात्राके डौरान मनसपटल म खेलल् हमार “हुकहिन” ओहे प्यारी रारा हुइटी । अस्टे अस्टे बात…..।
करिब २ः३० बजे ओर हमे्र रारा राष्ट्रिय निकुञ्जके प्रवेशद्धार म पुग्ली । मनैनके जात भिरभार रह, प्रवेशद्धारके बाउँ ओर रहल खाली मैदान म गाडी, जिप, बस, मोटरसाइकलके ठेगान नैरह । प्रवेशद्धारठे आर्मी हुकनके पोष्ट बा । आपन डिउटी पुरा कराके हमार गाडी आघ सम किल जाइ डेना हुइलैं । आर्मीनके पोष्ट हुइल ओरसे आन्जरपान्जर सफासुग्घर रहे । गाडी मिलि चौर कना ठाउँ सम किल जैना ठर्हल । साउन भडौ ओर यह चौर म मेरमेरिक फुला फुलठ कनाफे जानकारी मिलल । उहींसे आघ ४÷५ कि.मि. नेंगटी या त घोरुवा म बैठ्के जैना व्यवस्था बा तर घोरुवा म बैठ्के जाइकलाग बार्गेनिङ कर परठ और यात्री हुकनके बिचल्ली हुइठ । आपन आपन ओरसे टानिकटाना कर्ठ, ठ्याक्कै हमार गड्डा चौकी म टांगावालाके याड डिह्वाइट । हम्र जुन घुमगैल मनै ३ दिन के गाडीके यात्राले कर्रा परल ओरसे नेंगके जैना प्लान हुइल ।

सर्री के गस्कल बनुवा हिउँ पगलके डगर रप्टाहर हुइल रह । खाली घोरुवा, मनैन बोकल घोरुवा, पैडल नेंगटी मनै, जात भिरभार ओसिन डगर म फे हम्र उ डगर मजासे पार कर्ली लगभग १ घण्टा नेंगके । बनुवा म हिउँके चर्ढीहस छ्वापल रह । एक्कघची ओह हिउँम खेलके बनुवासे बाहेर निकर्ख समुद्रसेफे आउर काइल डुरेसे एक झल्का डेख्ली हमार अन्तिम गन्तव्य हमार रारा…. प्यारी रारा….. । यि ३ दिनके जात कर्रा संघर्ष, उत्साहा और कठिन परिस्थितीके सामना कर्टी हम्र हमार लौव वरष राराके क्वारम पुगख आपन जीवनके मग्सद पुरा कर्ली । जत्रा लग्घ पुगी ओत्र सुग्घर प्यारी लाग लागल । महिनफे आउर करिब हुइनास लागटह आपन आँखी के पल्कम ढार्लिउँ कि आपन छाटीम टाँस लिउँ या ट अप्नह यहँ समेट लिउँ…. । जब ढेर समय पाछ लर्का आपन डाइ हुकनसँग जसिक नादान मैयाँ देखैठ, आस्ठह अनुभुटी हुइटह मानौं रारा एकठो डाइ हुइटी । यात्राके डौरान मनसपटल म ख्यालल हमार “हुकहिन” जाट्टीसे आपनसँगै पाइलहस लागल हो सोचलसेफे आउर मैगर लागल । सक्कुजे आपन आपन मोबाईलके क्यारानभास म तस्बिर उतार लग्लैं । मैं अप्नह रोक नैसेक्नु फोटो खिचैनु । रारासँग और लग्घु हुइनास लागल राराके पोङ्गरा फोर्ना जुर पानीमफे जात डन्डुर लागल राराके पानीह चुम्नु और आपन प्यास मेटैनु । आझ खुसीके कौनो ठेगान नैहो । मै रारासँग अत्रा लग्घ हुइनु कि मोर मन म और कुछ इच्छा चाहना नैरहगिल । सायद सक्कु पुरा होगैल रह राराके मैंयाँ पाके ।
जिन्दगी म मौका सबजहन मिलठ । मौका म जे भौंका बाँढल उहि सब कुछ मिलठ । महिफे मौका मिलल रारा घुम्ना सायद उ मौकाहे छोरडेटँु टे सायद आझ यि यात्रा संस्मरण लिख्ना हैसियतफे नैहुइने रहे । हमे्र जिन्दगी म भारी भारी मौका, अवसरके आस म बैठल रठी जुन मिलफे सेकठ । नैमिलफे सेकठ छुटी छुटी मौका, खुसी सब कुछ भुलगैल रठी । जिही जत्रा मिलल ओमह खुसी हुइना हो । हमार २ दिनके रारा बसाईके बाद २ दिन म हम्र आपन घर घुमगैली । मने रारा हमार मनसपतल म बैठगैल बटी । सायद कब्बुफे नैभुलाइ सेक्ना मेरके । हमार हर यादम रहहीँ ओहे हमार प्यारी रारा……… हमार “हुकहिन”……।
रारा कि अप्सारा कसिक बखान करुं टोहाँर । नेपालके सबसे भारी टलुवा दुनु आँखीभर भरके अइठी, समुद्र जस्टे रारा आपन छालके गिटसे सक्कुजहन आपन मोहनीजाल म कैड कर्थी । जत्रा हेर्बो ओत्रहे हेर्नास लागठ मन अघैबोफे नैकरठ । लगभग ३००० मिटरके उचाई म रहल और १०.८ वर्ग.कि.मि. क्षेत्रफल म फैलल यि टलुवा नेपालके सबसे भारी टलुवा हो । यहँसे कान्जीरोवा, सिस्ने और सिस्ने हिमालके कपार किल डेख मिलठ जुन हमन हेर्ख खुसी हुइल अनुभुटी हुइठ । रारा जात सुग्घुर मैगर बटी आउर समय समय म आपन जवानीके रंग बडल्ख वहाँ जैना सक्कु पहुनन् आपन संबोहनले कैड कर्लेठी । एकठो ढुवाँ, ढुर होहल्ला, कामके भर्वासे डुर एकान्ट, सुन्सान और प्रकृतीके अनुपम मैगर क्वारम पुग बेर जाट्टीसे रारा स्वर्गके अप्सरा हुइटी जुन पृथवीके एकठो कोनम् बैठल बाटी….. चन्चल, निर्मल, कोमल राराके फट्कार पानी ओकर आंजरपांजरके काइल बनुवा पहाड, उज्जरर डेखैना हिमाल और सम्झना आइठ राजा महेन्द्रके कविताके उ हरफ….।
सुन्दरता के बखारी सारा
का खन्हैलो यहे रारा म
रारा कि अप्सरा ।


रारा टलुवाके पन्ज्रहे रहल राजा महेन्द्रके कविता लिखल शिलालेख

थप सम्बन्धित समाचार
Follow
Us